Saturday, August 31, 2013

चल रहे

  चल रहे

१. 
रास्ता अब तो यहाँ, कोई नज़र आता नहीं 
लाख कसमें खा रहे, हमको यकीं आता नहीं। 

२. 
रहनुमा अपना यहाँ अब तो भला लगता नहीं,
बे-कटारी हाथ अब, आगे बढ़ा दिखता नहीं।  

३. 
है बाग़ वो ही, खेत वो, मंज़र मगर वैसा नहीं, 
आसमाँ नीला ही है, धरती मगर वैसी नही। 

४.
महसूल देते हर कदम, गड़हे खतम होते नहीं,
कितना झुकाएं सिर भला, बुत बने सुनते नहीं।   

५.
माफ़ है सब कुछ उन्हें जो पेट भर पाते नही, 
क्या करें उनका मगर खाते हुए छकते नहीं। 

६.
मजहब जुदा, बोली बंटी, है आदमी दिखता नहीं,
हैं जातियों में ज़ब्त हम, है मुल्क यूं बनता नही।  

७.
चल रहा यूं ही यहाँ अब दिल मगर लगता नही,
अपनी तिजारत के लिए बाज़ार अब सजता नहीं। 

८.
चलते चले हैं, चल रहे, जाएं कहाँ दिखता नहीं, 
मेले में हैं, कितने अकेले, अब सुकूं मिलता नहीं।

------- 

Tuesday, August 20, 2013

अंतिम धार

अंतिम धार 

१. 
ये भी कैसी यारी अपनी, जीवन भर की पारी है,
दाँव चला है उनने ऐसा, अपनी भी मजबूरी है.

२ 
चिकने चेहरे भरी लुनाई, कैसी की ऐय्यारी है,
सबके भेद खुले है यारों, उनकी भी तैय्यारी है. 

३ 
गिरते पड़ते, चलते रहते, मंजिल यहाँ ख़ुदाई है, 
झोली खाली, दिल की, अपनी पूरी खुली लटाई है.   

४ 
जिस कीमत पर दांव लगा है, उसकी ना मंजूरी है, 
इसी जनम में धरम बदल लें, ये तो ना दस्तूरी है. 

५ 
गली-अली घर ऊंचे मंदर, आतिश जले उधारी है. 
चमक दमक के आगे दिखती यह कारी अंधियारी है,

६ 
जिनका जीवन कई कलप का, उनकी ये बीमारी है,
अपना ज़्यादा बीत चुका, अब थोड़ी सी मेहमानी है.

नेह लगा कर सुनो हमारी अंतिम धार कहानी है,
कहा सुना अब माफ़ करो जो हमने की नादानी है. 

-----